Tuesday, May 15, 2018

जहाँ चाह वहाँ राह - उज़बेक की लोक कथाएँ (Folk Tales From Uzbekistan)

लोक-कथाओं की अगली कड़ी में प्रस्तुत है -जहाँ चाह वहाँ राह 

यह पुस्तक उज़बेकिस्तान (उज़बेक) की लोक कथाओं का शानदार संग्रह है जो किसी समय शक्तिशाली व विशाल सोवियत संघ का एक अंग रहा था. यह पुस्तक उसी समय की है जब सोवियत संघ के द्वारा बहुत ही सुन्दर पृष्ठों और आवरण के साथ हिंदी व अंग्रेजी भाषा में विश्व-स्तरीय पुस्तकें बहुत की कम मूल्य पर उपलब्ध हुआ करती थी. (वैसे ये reprinted edition है)

तो डाउनलोड करें और आनंद उठाएं - इस गर्मी में अपने लोगों के बीच लोक-कथाओं के साथ 



No comments: