Tuesday, May 15, 2018

मिजबान - बुन्देलखंडी लोककथाओं का संकलन

बुन्देलखंडी बोली बड़ी प्यारी होती है. बचपन में जब मैं कक्षा पहली में था - तब एक बड़ी प्यारी सी लोरी पढ़ी थी अपनी हिंदी की पुस्तक में - 'झूल भैया झूल' -

आज भी पुस्तक मेरे पास है - तो लीजिये उस पाठ का चित्र आपको दिखाता हूँ, आप भी देखेंगे कितनी मीठी है यह बोली -हमारी हिंदी की तरह ही तो है - प्यारी और अपनी सी...



इसी बुन्देलखंडी भाषा में एक बड़ी सुन्दर की किताब कल हाथ लगी इन्टरनेट पर - अगर पसंद आये तो कोशिश करें की आप लेवें - केवल 30 रुपये की है. मैं भी कोशिश कर रहा हूँ इसे खरीदने की - ताकि ऐसी ही पुस्तकों के प्रकाशन का मार्ग प्रशस्त हो...


आइये पढ़ते हैं मिजबान - बुन्देलखंडी लोककथाओं का संकलन 

No comments: