Friday, May 31, 2013

गंगा BPB- चौराहे की मौत (एस..सी. बेदी - राजन इकबाल )

अभिजीत भाई मेरी जानकारी में बाल पॉकेट बुक्स के सबसे बड़े प्रशंसकों में से एक हैं . और शायद सॉफ्ट कॉपी पढने वालों में सबसे बड़े। बीते कई दिनों से उनके अनुरोध के बावजूद में कोई बल पॉकेट शेयर नहीं कर पा रहा था, आज समय हुआ है तो अभिजीत भाई ख़ास  लिए आपके पसंदीदा लेखक और चरित्रों की एक बेहद पुरानी  और दुर्लभ कथा .
एस.  सी। बेदी राजन इकबाल

गंगा पॉकेट बुक्स द्वारा प्रकाशित - चौराहे की मौत

3 comments:

Abhijit Chitatwar said...

Mere Paas Bhi Ek Hai Ganga Pocket Book Rajan Iqbal Series Ki " Khoon Ke Khiladi " Par Vah Bahut Purani Hai Itni Ki Kuch Pages Ki Toh Writing Bhi Gayab Ho Gayi Hai Par Tulsi Ke Baad... Sorry Mera Matlab Tulsi Se Pahele Ganga Hi Aisi Publishing Company Thi Jo S C Bedi Ke Kuch Bahut Hi Acche Novels Ke Liye Jaani Jati Hai Aur Aapko Ek Baat Pata Nahi Hogi Ki Ganga Pocket Books Ko SC Bedi Ji Ke Hi Ek Prashansak Ne Open Kiya Tha Par Baad Mein Ganga Pocket Books Jyada Nahi Chal Paayi Aur 4 Saal Ke Baad Hi Band Ho Gayi........But Ofcourse I Love Bal Pocket Books Comics Se Bhi Jyada........Aur Hamesha Ki Tarah Aapko Thanks Ek Bahut Hi Acchi Novel Ke Liye.........

Abhijit Chitatwar said...

Mujhe Bachpan Se Hi Novels Padhne Ka Shauk Tha......Bachpan Mein Novels Padhta Aur Detective Logo Jaisa Banna Chahta Tha.....Action Ho Gunde Logo Se Ladhai Ho.......Rajan Jaisa Banna Chahta Tha Main.......Abhi Bhi Mujhe Rajan Jyada Pasand Hai.......Gusse Wala,Watan Par Apni Jaan Tak Kurbaan Karne Wala , Apne Lakshya Se Kabhi Najar Nahi Hatata...Rajan Dimaag Se Jyada Kaam Lene Wala The Mastermind... ....SC Bedi Ji Ke Novel Jin Logo Ne Bhi Padhe Honge Unhe Desh Ki Sewa Karne Ka Mann Toh Jaroor Huya Hoga.....Novel Hi Aise Hote The. ......Lagta Tha Abhi Police , Army Ya Navy Join Kar Li Jaye Par Baad Mein Lagta Tha Yaar Asliyat Kuch Aur Hi Hoti Hogi.......Par Aaj Bhi Bahut Log Rajan Iqbal Ke Fans Hai....Par Jitne Facebook Community Par Add Hai Vo Iss Blog Par Nahi Hai........Unhe Bhi Ye Blog Join Karna Chahiye.........!

Anupam Agrawal said...

अभिजीत भाई - सबसे पहले तो आपके दिल से लिखे गए कमेंट्स के लिए बहुत बहुत शुक्रिया। गंगा पॉकेट बुक्स के बारे में जानकारी आपके द्वारा प्राप्त हुयी उसके लिए सभी पाठको की ओर से साभार.
वैसे बेदी जी के बारे में कुछ जानकारी सुखवंत कलसी जी के द्वारा वार्तालाप में पता चली उनके उनकी इजाजत लेकर जल्द ही यहाँ शेयर करूँगा .
जहां तक गंगा पॉकेट बुक्स की बात है तो ये मुझे बहुत पसंद है. मेरे पास कुछ और भी पॉकेट बुक्स है इस प्रकाशन की। जल्द ही उन्हें शेयर करुङ्ग. दिक्कत यह हैं की काफी साड़ी पार्ट में है और मेरे पास पार्ट्स मिसिंग हैन. पर कोई बात नहीं बिना पार्ट वाले या पूरे पार्ट्स वाले बाल पॉकेट जल्द ही अपलोड करता रहूँगा