Tuesday, December 18, 2012

छ.ग.पा.पु.नि. - वीर सुरेन्द्र साय

छत्तीसगढ़ में अंग्रेजों के प्रति विद्रोह जागृत कर उनका साहस पूर्वक मुकाबला करने वाले वीरों में सुरेन्द्र से का नाम उल्लेखनीय है। छत्तीसगढ़ के इस वीर सपूत के मातृभूमि प्रेम और जीवन पर आधारित चित्रकथा का आनंद लीजिये। यह इस सीरिज की दूसरी कॉमिक्स है जल्द ही मैं धीरे-धीरे ही सहीं 20 चित्रकथाओं का पूरा सेट इस ब्लॉग पर अपलोड कर दूंगा। 

"जय हिन्द जय छत्तीसगढ़"

2 comments:

Abhijit Chitatwar said...

Accha Lagta Hai Ki kisi jaabaaz ne apni matru-bhoomi ke liye apni Jaan Ki Parvaah Nahi Ki......vaise chattisgarh hi nahi pure hindustan ki aazaadi ke liye ki thi......unhone vidroh......Hame Apne Un Jaabaaz Sathiyon Ke Liye Garv Mehsoos Karna Chahiye Jo Hame Aazaadi Dila Chuke Hai Aur Jo Sarhad Par Hame Aazaadi Se Saas Lene Ki Aazadi dete hai apni azaadi Ko Bhulakar......!

Gaurav Gandher said...

Thanks a lot Anupam Bro for sharing