Tuesday, November 6, 2012

Old and discontinued One Thousand Rupee Bank Note of India

क्या आप जानते हैं की वर्तमान में प्रचलित एक हजार रुपये के बैंक नोट के पहले भी भारत में इस मूल्य के बैंक नोट प्रचलित रह चुके हैं। ना केवल एक हजार बल्कि भारत में पांच और दस हजार के रुपये भी मुद्रित हुए थे। जरा सोचिये उस वक्त इन नोट की क्या अहमियत होती थी होगी।

खैर पांच और दस हजार के बारे में फिर कभी, आज बात करते हैं एक हजार के इन पुराने नोटों के बारे में।

रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया के द्वारा एक हजार का सबसे पहला बैंक नोट जारी किया गया था 1 अप्रेल 1954 को, जिसमे बी रामा राव के हस्ताक्षर थे गवर्नर के रूप में। पीछे तंजौर ब्रिहदेश्वर मंदिर का चित्र इस नोट में मुद्रित किया गया था।

एक झलक इस नोट की प्रस्तुत है -


इसी नोट में हिंदी में सुधार और रंग पर्तिवर्तन के साथ मुद्रित किया गया था, जो की 1967 तक जारी हुए थे।
इन नोट्स में क्रमशः  B.RAMA RAU, H.V.R. IYENGAR और P.C. BHATTACHARYA के हस्ताक्षर गवर्नर के रूप में थे।



आठ वर्ष के अंतराल के पश्चात डिजाइन में परिवर्तन के साथ 1975 से 1977 तक इन्हें पुनः जारी किया गया। इस बार गवर्नर थे - N.C.SENGUPTA और K.R.PURI .



और फिर बढ़ते हुए काले धन और नकली नोट के खतरे को ध्यान में रखते हुए इन बड़े मूल्य के बैंक नोट का प्रचलन बंद कर दिया गया था। और पूरे  तेईस बीस साल बाद इनका प्रकाशन महात्मा गाँधी सीरिज के तहत चालु किया गया जो हम आज प्रयोग कर रहे हैं।

एक कॉमिक्स साईट में शायद ये लेख आपको न लुभायें, परन्तु मैंने विचार किया है की अब अपने ब्लॉग को मैं किसी एक क्षेत्र तक सिमित नहीं रखकर उसमे कुछ अलग विषयों पर लिखते रहूँगा।
अपने सुझाव और विचारों से अवगत करवाएं।

4 comments:

PD said...

खैर फिर से पोस्ट कर देता हूँ :) -

वाह अनुपम भाई. इस जानकारी के बारे में मुझे पता भी नहीं था.
कामिक्स ब्लॉग को अलग करके मत देखिये, मैंने पाया है की कामिक्स ब्लॉग में कई ऐसी जानकारी मिलती है जो किसी एनी हिंदी ब्लॉग में नहीं मिलती है. मैं तक़रीबन हर हिंदी ब्लॉग को पिछले छः साल से फोलो कर रहा हूँ. और कम से कम यही पाया हूँ की जितनी गंध एनी हिंदी ब्लॉग में फैली हुई है वह दुर्गन्ध कामिक्स ब्लॉग में नहीं है.
यही कामिक्स ब्लॉग की सबसे बड़ी सफलता है.

आपको अनेकानेक बधाई.

Abhijit Chitatwar said...

I Appriciate....kuch naya shikhne ko mil raha hai Ye Bahut Acchi Baat Hai....I Really Dont Know about This Par Ab Pata Chal Gaya......Aur Bahut Hi Badiya Hai....Ye Sab Jaannna..Maalum Karna....And Main Asha Karta Hun Ki Aap 5 Aur 10 Thousand Waale Noto Ke Baare Mein Bhi Post Karenge......Par Anupam Bhaiyya Aap Pahale Indian Bal Pocket Books Par Koi Rajan Iqbal Ki Novel Post Karo...........Plz.

Anupam said...

PD भाई,
आपके इस हौसला-अफजाई का तह-ए- दिल से शुक्रिया। कॉमिक्स ब्लॉग पर इस तरह के लेख को सराहने का अर्थ बहुत ज्यादा है, न केवल यह मुझे नयी ऊर्जा देगा बल्कि साथ ही मुझे इस तरह के विभिन्न पोस्ट जो मैं कई वर्षों से शेयर करना चाहता था, उन पर कार्य करने हेतु प्रेरित भी करेगा।
जल्द ही इस सिलसिले में मैं अन्य बैंक नोट के बारे में चर्चा जारी रखूँगा।

Anupam said...

Abhijit Bro,
This one is really something that I have been craving to share for a long time, but considering that mine is a comics blog I dare not to do that. But eventually I decided to expand the criteria of my blog and thus revamped the very idea of my blog to extent it to anything that I like to share.

so its not a comic blog only anymore, anything that I would find worth sharing in my world will be here.

about Bal pocket books, by sunday there will be 2 of them posted.