Sunday, August 26, 2012

ख़ूनी बादल हरीश bpb - राजन इकबाल एस.सी बेदी

अभिजीत भाई,
पिछले तीन - चार दिनों से बारिश की वजह से लाइन में समस्या है, और नेट भी कनेक्ट नहीं हो रहा था, आज भी एक दोस्त के घर से अपलोड और पोस्ट कर रहा हूँ, वडा जो किया था आपसे.

तो आनंद लीजिये रौशनी का जंगल के दुसरे और अंतिम भाग का


CLICK HERE TO DOWNLOAD THE BAL POCKET

3 comments:

Abhijit Chitatwar said...

Arre Chalta Hai Anupam Bhaiyya........Vaise Bhi Ab Toh Bus Novel Padne Ka Intzaar Hai Bus Jaldi Kaam Khatam Karke Novel Padhunga ..............Novel Ke Liye Thanks.........!

राजन इकबाल said...

Thanks Anupam Bhai... Aapka dedication... suhan allaah!!! Me aapke saare post FB pe rajan qbal ae per share kar raha hun, taki zyada se zyada log inhe padh sake

The Devil said...

Thanks a lot Anupam Bro.