Tuesday, May 1, 2012

I am 5 Celebration #5 - मनोज चित्र कथा 8० - देव लोक की कन्या


जो दोस्त इस बर्थडे पार्टी में आये, उनका शुक्रिया और जो नहीं आये (बहुत सारे :-() उनका इन्तजार रहेगा की वो आज नहीं तो कल आयेंगे मुबारकबाद देने. खैर चलिए अब रात हो चली है तो इस पार्टी को अंजाम तक पहुचाया जाए.

अरे कहाँ चल दिए जाते-जाते रिटर्न गिफ्ट लो लेते जाइए. पेश है पांच साल पूरा होने की ख़ुशी में पांच दुर्लभ चित्रकथाओं की आखिरी कड़ी -

मनोज चित्र कथा 8० - देव लोक की कन्या

कई दिनों की थकावट के बाद बिना आराम किये जैसा बन पड़ा दोस्तों आज की पार्टी राखी थी, पूरी कोशिश के बाद भी कोई कमी रह गयी हो तो माफ़ी चाहूँगा

कॉमिक्स डाउन लोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें
कैलाश भाई की ओर से 

5 comments:

Pratik Jain said...

अनुपम भाई ब्लॉग के जन्मदिवस की बधाइयां स्वीकार कीजिये और देर से आने के लिए क्षमा कीजिये
मेरी शुभकामना है कि आपका ब्लॉग चलता रहे और ऐसे कई अवसर आये जन्मदिवस मनाने के

Anonymous said...

anupam ji aapke blog ne mujhe bahut se comics padne ko di hain ........iske janamdin ki bahut bahut badhai....comic fans ke liye jo kaam aap kar rahe hain uske liye aapko dhanyavaad
gaurav

PBC said...

सालगिरह मुबारक हो|
पार्टी तो अभी कहाँ ख़तम हुई, अभी तो कोई नया पोस्ट नहीं आया है| :)
क्या बात है, पलक झपकते ही ५ साल हो गए! लगता है कल की ही बात है|
लगभग शुरुआत से ही आपके ब्लॉग से बहुत सारे अनमोल रतनों को चुना है|
आपका आंगल भाषा और इंद्रजाल से पुर्णतः हिन्दी के कॉमिक्स का सफ़र भी बहुत अनूठा है|
कुछ ऐसी श्रृंखला की भी जानकारी हुई, जिससे मैं अनभिज्ञ था|
बहुत बहुत शुक्रिया|

akfunworld said...

Anupam bro a very heartily congratulation on completing 5 years of your great and inspiring work. Its really has been a great journey and you have really done a fabulous work in preserving the lost world of Hindi as well as English comics.
I thank you on behalf of all comic lovers for continuing your work for so long and for providing us some memorable unknown comics.
Once again congratulations and keep it up.

Anonymous said...

Link Kaam Nahi Ker Raha!