Sunday, March 20, 2011

CHITRA BHARTI KATHAMALA - ADRISHYA LUTERA (PRIVATE DETECTIVE KAPIL) - ANUPAM SINHA

होली की रंग भरी शुभकामनायें साथियों, 

माफ़ कीजियेगा, आज की पोस्ट तो सुबह ही करनी थी, पर रंगों के त्यौहार में हम भी कुछ ऐसे रंग गए की कुछ देर पहले ही फुर्सत हो पायी, तो बस कॉमिक्स और स्केनर ले शुरू हो गए और तीन घंटों की मेहनत के बाद आपके लिए यह ख़ास कॉमिक्स प्रस्तुत कर रहा हूँ, होली के मस्ती भरे मौके पर अनुपम सिन्हा जी की जादुई लेखनी और चित्रकारी का कमाल - मेरे सबसे पसंदीदा चरित्रों में से एक - प्राइवेट डिटेक्टिव कपिल 

मजा लीजिये एक नहीं दो शानदार कहानियों का - 
अदृश्य लुटेरा - 
बैंक में तीस लाख रुपयों की चोरी, और लुटेरों के पास रकम ही नहीं मिली, जबकि उनके पास केवल एक ही मिनट था - वारदात और हिरासत के बीच, तो कहाँ गयी इतनी बड़ी रकम. 
बोलती आँखें - 
जन्मदिन के केक में जहर, शक के दायरे में पूरा परिवार, पर खून किया किसने और क्यों? 

एक शानदार चित्रकथा, (चित्र भारती के शानदार संग्रह से)
* मनोज पाण्डेय भाई का धन्यवाद, मेरे लिए इस कॉमिक्स को प्राप्त करने हेतु.

5 comments:

Nishant said...

thanks a lot bro....cbk is one of my favorite publications and pvt detective Kapil is one of the classic characters conceived by anupam sinha....it reminds me of early super commando dhruv comics.Thanks again

The Devil said...

Thanks a lot mate. It's very old comic but still I do remember the cover and even the title of this one. Thanks for sharing

akfunworld said...

Thanks Anupam bhai for one more gem from Chitra Bharti katha mala.....

Anonymous said...

really good scan and story anupam ji

aap ka fir se dhanyawad


Aditya

Sunita Banerji said...

Hi I am one of the best private detectives in Mumbai. Yeah one of those rare female breeds in the Indian private investigation scene! Check out pour website www.allianceonedetectives.com for more info!