Thursday, June 17, 2010

Bhagwan Ki Gawahi by Anupam Sinha (भगवान की गवाही )

अनुपम सिन्हा जी के अत्यंत दुर्लभ कार्यों कि श्रंखला में प्रस्तुत है - भगवान की गवाही

6 पेजों की एक लघु चित्रकथा, जिसे देखकर आपको 'सुपर कमांडो ध्रुव' के चित्र याद आ जायेंगे. आप खुद ही महसूस करेंगे कि इस चित्रकथा और सुपर कमांडो ध्रुव के प्रारंभिक चित्रकथाओं -  दोनों की चित्रकारी के तरीकों में कोई अंतर नहीं है.

साथ ही कुछ ख़ास बातों पे गौर कीजिये - क्या इस लधु कहानी में माधव (मुख्य किरदार) और निशा (माधव कि पत्नी) के चित्र आपको कुछ कुछ - 'सुपर कमांडो ध्रुव' के पीटर और श्वेता कि याद दिलाते हैं?

भाई मुझे तो अवश्य दिलाते हैं . .. तो क्या हम यह माने के अनुपम सिन्हा जी केवल एक ही प्रकार की  चित्रकारी करते थे. अरे नहीं भाई, बाद में आपको एक दूसरी लधु चित्रकथा देंगे, उसको देखकर तो अनुपम सिन्हा का बड़ा से बड़ा प्रशंसक भी कहेगा - अरे नहीं यार ये उनका चित्र नहीं हैं...

(पर  पहले आपका नजरिया तो पता चले इस कोशिश के बारे में, क्या पता आपको वाकई राज कॉमिक्स के बाहर के  उनके कार्यों में रूचि है भी या नहीं...अब यह तो आपके कमेंट्स ही बतायेंगे, उसके बाद ही कोई निर्णय लूँगा कि इस कार्य को आगे बढाया जाए या नहीं? तो अपने  विचारों से जरूर अवगत कराइए  )

खैर फिलहाल, ये तो पढ़िए ....

11 comments:

nahlawat said...

gream work anupam ji hats off to you as you i am also big fan of anubhav sinhas work i have reading his comics from day one he even use to male some pictures in nanhe samrat and detective kapil manasputra can u tell me from which magzine u get this comic must be chitrabharti

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'/Dr. Purushottam Meena 'Nirankush' said...

जिन्दा लोगों की तलाश!

आपको उक्त शीर्षक पढकर अटपटा जरूर लग रहा होगा, लेकिन सच में इस देश को कुछ जिन्दा लोगों की तलाश है। सागर की इस तलाश में हम सिर्फ सिर्फ बूंद मात्र हैं, लेकिन सागर बूंद को नकार नहीं सकता। बूंद के बिना सागर को हो सकता है कोई फर्क नहीं पडता हो, लेकिन बूंद का सागर के बिना कोई अस्तित्व नहीं है।

आपको उक्त टिप्पणी प्रासंगिक लगे या न लगे, लेकिन हमारा आग्रह है कि बूंद से सागर की राह में आपको सहयोग जरूरी है। यदि यह टिप्पणी आपके अनुमोदन के बाद प्रदर्शित होगी तो निश्चय ही विचार की यात्रा में आप को सारथी बनना होगा। इच्छा आपकी, आग्रह हमारा है। हम ऐसे कुछ जिन्दा लोगों की तलाश में हैं, जिनके दिल में भगत सिंह जैसा जज्बा तो लेकिन इस जज्बे की आग से अपने आपको जलने से बचाने की समझ भी जिनमें हो, क्योंकि भगत ने यही नासमझी की थी, जिसका दुःख आने वाली पढियों को सदैव सताता रहेगा। हमें सुभाष चन्द्र बोस, असफाकउल्लाह और चन्द्र शेखर आजाद जैसे आजादी के दीवानों की भांति आज के काले अंग्रेजों के आतंक के खिलाफ बुद्धिमतापूर्ण तरीके से लडने वाले जिन्दादिल लोगों की तलाश है। आपको सहयोग केवल इतना भी मिल सके कि यह टिप्पणी आपके ब्लॉग पर प्रदर्शित होती रहे तो कम नहीं होगा। आशा है कि आप उचित निर्णय लेंगे।


समाज सेवा या जागरूकता या किसी भी क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों को जानना बेहद जरूरी है कि इस देश में कानून का संरक्षण प्राप्त गुण्डों का राज कायम होता जा है, बल्कि हो ही चुका है। सरकार द्वारा जनता से हजारों तरीकों से टेक्स (कर) वूसला जाता है, देश का विकास एवं समाज का उत्थान करने के साथ-साथ जवाबदेह प्रशासनिक ढांचा खडा करने के लिये, लेकिन राजनेताओं के साथ-साथ भारतीय प्रशासनिक सेवा के अफसरों द्वारा इस देश को और देश के लोकतन्त्र को हर तरह से पंगु बना दिया गया है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा के अफसर, जिन्हें संविधान में लोक सेवक (जनता के नौकर) कहा गया है, व्यवहार में लोक स्वामी बन बैठे हैं। सरकारी धन को भ्रष्टाचार के जरिये डकारना और जनता पर अत्याचार करना इन्होंने अपना कानूनी अधिकार समझ लिया है। कुछ स्वार्थी लोग इनका साथ देकर देश की अस्सी प्रतिशत जनता का कदम-कदम पर शोषण एवं तिरस्कार कर रहे हैं। ऐसे में, मैं प्रत्येक बुद्धिजीवी, संवेदनशील, सृजनशील, खुद्दार, देशभक्त और देश तथा अपने एवं भावी पीढियों के वर्तमान व भविष्य के प्रति संजीदा लोगों से पूछना चाहता हँू कि केवल दिखावटी बातें करके और अच्छी-अच्छी बातें लिखकर क्या हम हमारे मकसद में कामयाब हो सकते हैं? हमें समझना होगा कि आज देश में तानाशाही, जासूसी, नक्सलवाद, लूट, आदि जो कुछ भी गैर-कानूनी ताण्डव हो रहा है, उसका एक बडा कारण है, भारतीय प्रशासनिक सेवा के भ्रष्ट एवं बेलगाम अफसरों द्वारा सत्ता मनमाना दुरुपयोग करना और कानून के शिकंजे बच निकलना।

शहीद-ए-आजम भगत सिंह के आदर्शों को सामने रखकर 1993 में स्थापित-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)- के सत्रह राज्यों में सेवारत 4300 से अधिक रजिस्टर्ड आजीवन सदस्यों की ओर से मैं दूसरा सवाल आपके समक्ष यह भी प्रस्तुत कर रहा हूँ कि-सरकारी कुर्सी पर बैठकर, भेदभाव, मनमानी, भ्रष्टाचार, अत्याचार, शोषण और गैर-कानूनी काम करने वाले लोक सेवकों को भारतीय दण्ड विधानों के तहत कठोर सजा नहीं मिलने के कारण आम व्यक्ति की प्रगति में रुकावट एवं देश की एकता, शान्ति, सम्प्रभुता और धर्म-निरपेक्षता को लगातार खतरा पैदा हो रहा है! क्या हम हमारे इन नौकरों (लोक सेवक से लोक स्वामी बन बैठे अफसरों) को यों हीं सहते रहेंगे?

जो भी व्यक्ति इस जनान्दोलन से जुडना चाहे उसका स्वागत है और निःशुल्क सदस्यता फार्म प्राप्त करने के लिये निम्न पते पर लिखें या फोन पर बात करें :-

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा
राष्ट्रीय अध्यक्ष
भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)
राष्ट्रीय अध्यक्ष का कार्यालय
7, तँवर कॉलोनी, खातीपुरा रोड, जयपुर-302006 (राजस्थान)
फोन : 0141-2222225 (सायं : 7 से 8) मो. 098285-02666, E-mail : dr.purushottammeena@yahoo.in

Anupam said...

@Nahlawat - Welcome here, but one thing yaar -

"i am also big fan of anubhav sinhas work"
Brother, please it 'Anupam Sinha' and not 'Anubhav Sinha'. Anyway...

The story is taken from 'Nanhey Samrat' - the only magazine showcasing his versatility not his usual illustrations.

Also, about Chitra Bharti Kathamala, Are Bhai kisi ke paas ho to SELL kar do mujhe. Dying to get Kapil, Space Star and Chocolate Magazine...

@Dr. Purushottam - Sir, Its nice to have such great feelings shared on this blog. Used to discuss a lot on such topics and got angry, frustrated and finally disappointed. But best of luck and my warm wishes...

PBC said...

Nice project Anupam Bhai.

Not much aware about works of Anupam Sinha ji. After 1985 my interest was limited to comics which were earlier already well established in market. Through your informative posts, soon may start loving his comics.

One request: For post part (only) using light colours would be better. Black is good for picture oriented posts, here texts are going to dominate. Pls think about it.

Thanks!

अजय कुमार said...

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

Anupam said...

Prabhat - How are you, Brother?

I know many persons who have not read his comics, but really its my personal request to go through his early titles of 'Super Commando Dhruv' - They are the best comics I have ever come across.

Really, each one is priceless gem. Try them. They all are available in the net.

Ajay - धन्यवाद अजय जी,

आपका बहुत बहुत स्वागत है. आपके ब्लॉग पर अभी एक नजर डाली है, वाकई शानदार है.

E-Guru Rajeev said...

हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

शुभकामनाएं !


"टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

E-Guru Rajeev said...

आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

जयराम “विप्लव” JAYRAM VIPLAV said...

" बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

Sun Shukr said...

Your Blog Is Very Nice, I Think We Should Be Friends.

Anonymous said...

I was suggested this website by my cousin. I am not sure whether this post is written by him as nobody else know such detailed about my problem.

You're incredible! Thanks!

Also visit my weblog :: http://nouveauclashofclanstriche.blogspot.com/